Share

Special Report – Champaran | Variations in Khadi

अरसे से उपेक्षित पड़े खादी और ग्रामोद्योग क्षेत्र में हाल के महीनों में काफी बदलाव दिख रहा है। खादी उत्पादों की बिक्री में रिकॉर्ड बढ़ोत्तरी हो रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की खादी को बढ़ावा देने की अपील ने काफी असर डाला है और रेलवे से लेकर एयर इंडिया दूसरे सरकारी विभागों में खादी का उपयोग काफी बढ़ा हैं। नयी डिजाइन और दूसरे उपायों से युवाओं में भी खादी के प्रति खास आकर्षण दिख रहा है। हालांकि स्वाधीनता आंदोलन और गांधीजी की धरोहर खादी की भारत के कपड़ा कारोबार में एक फीसदी से भी कम हिस्सेदारी है, लेकिन इसकी पहुंच तीन लाख से ज्यादा गांवों तक है। देश भर में खादी और ग्रामोद्योग की करीब सात लाख घरेलू इकाइयां हैं और पौने दस लाख चरखे और एक लाख 51 हजार करघे खादी की जीवन रेखा हैं। पर खादी की असली ताकत कत्तिन और बुनकर अभी भी तमाम चुनौतियों से घिरे हैं। इस क्षेत्र के कायाकल्प की दिशा में कौन सी नयी तैयारियां चल रही है, इस मसले पर राज्य सभा टीवी की खास पड़ताल।

Anchor: Arvind Kumar Singh

Leave a Comment